Friday, December 29, 2017

Kisse Amitabh Ke - Ek Thi Murti

किस्से अमिताभ के - एक थी मूर्ति - स्टार कॉमिक्स
लेखक : गुलज़ार ( प्रसिद्द फिल्म मेकर, लेखक)
पेंसिलिंग : प्रताप मुल्लिक

अमिताभ बच्चन इन एंड एस 'सुप्रीमो"

IBH PUBLICATIONS ने हमें अब तक कई तरह के पढने लायक ग्राफ़िक नोवेल्स  दिए , जिनमे से अमर चित्रकथा और टिंकल मैगज़ीन काफी पोपुलर हुए! लेकिन सन 1980 के दौरान IBH PUBLICATIONS द्वारा प्रकाशित स्टार कॉमिक्स से 'सुप्रीमो' नामक  सुपरहीरो पाठको के लिए निकाला गया था, जो काफी पोपुलर हुआ था ! यह सुपरहीरो काफी ख़ास था ! रंधीर कपूर  उस वक्त अमिताभ बचन को सुप्रीमो नाम से बुलाते थे ! बस और क्या था सुपर हीरो के लिए एक ख़ास नाम स्टार कामिक्स के हाथ में था ! लेकिन IBH  कामिक्स प्रेमियों के लिए डबल ट्रीट देने के मूड में थी! डीसी कामिक्स में जिस तरह क्लर्क केंट और सुपरमेन एक ही शख्स है लेकिन अलग अलग अस्तितिव है, ठीक इसी तरह स्टार कामिक्स ने किस्से अमिताभ के कामिक्स सीरीज में सुप्रीमो और अमिताभ बच्चन दो अलग अलग अस्तित्व और एक ही इंसान रखे! मतलब अमिताभ अपने फिल्म शूट के अलावा एक सुप्रीमो नामक सुपर हीरो भी है ऐसा इस सीरिज में दिखाया गया था! इस कामिक्स में हेमा मालिनी का एक कैमिया रोल भी है!

कहानी की शुरुआत होती है एक फिल्म के शूटिंग सेट से, जहां अमिताभ बचन अपनी को स्टार हेमा मालिनी के साथ एक फिल्म की शूटिंग कर रहे होते है! तभी अमिताभ बचन की पालतू चिड़िया 'शाहीन" आकर उसके कान में कुछ बताती है! अमिताभ जल्द से जल्द अपनी शूटिंग निपटा कर अपने द्वीप जाते है जो असल में सुप्रीमो नाम सुपर हीरो का हेड क्वार्टर है! यहाँ कई सारे पालतू जानवर रहते है! जानवरों के साथ अमिताभ बच्चन का तालमेल लेखक गुलजार ने काफी अच्छी तरह फेंस को प्रेजेंट किया है! कहानी का शीर्षक 'एक थी मूर्ति" जिससे साफ़ पता चलता है की कहानी एक मूर्ति के इर्द गिर्द होगी! सन 1660 में चोरी हुई मूर्ति समुन्दर के बीच एक दुबे हुए जहाज के मलबे में दबी हुई होती है! जिसके बारे में कुछ गुंडों को पता चल जाता है! अमिताभ बच्चन यानी सुप्रीमो वह पहुँच कर करीब 300 साल से खोई हुई मूर्ति को अपने कब्जे में लेता है जिसके लिए उसकी उन गुंडों के साथ भीषण जंग भी होती है! आखिर मूर्ति उसके पास होती है जो वह भारत सरकार को दे देता है, क्योंकि वह देश की अमानात है!

एक सेलेब्रिटी को सुपर हीरो दिखा कर फेंस के सामने  पेश करना, इंडियन कामिक्स इंडस्ट्री में शायद यह पहला प्रयास था! जो काफी सफल हुआ था! फेंस के बीच सुप्रीमो जगह बना चूका था! इस श्रुंखला में करीब 8 कामिक्स आयी थी या शायद 9 मुझे इसका पक्का पता नहीं है!

आज भी  इन सीरिज की कामिक्स काफी रेयर मानी जाती है, जो सिर्फ कुछ गिने चुने फेंस के पास ही है!

धन्यवाद


2 comments:

R.K. said...

Ji yahi voh samay tha jab digital cheejo ki jagah log sahitya ko gambheerata se lete they , aur sahitya kaisa bhi ho voh sabhi jagah , sabhi umar ,aur sabhi varg ke logo me popular tha

Fenil B. Sherdiwala said...

Right said @R.K. ji

KHOONI PYASA - JASOOSI DUNIYA (IBNE SAFI)

खुनी प्यासा - जासूसी दुनिया (इब्ने सफी) इब्ने सफी के अत्यंत दुर्लभ उपन्यासों में से एक है 'खुनी प्यासा" ! मे यकीन के साथ तो नह...